You Like Post Please Comment Or +Google and Say Our Advice And Share To Others Person

हिंदी-अंग्रेजी ने दूर कर दी आती हुई मेरिट


सीकर.12वीं कॉमर्स में तीन मैरिट देने वाले शेखावाटी के होनहारों ने ऑप्शनल सब्जेक्ट में जहां झंडे गाड़े हैं वहीं कंपलसरी में उनकी पकड़ थोड़ी और मजबूत होती तो हमारी मैरिट का सेंसेक्स और बढ़ जाता। अनिवार्य हिंदी और अंग्रेजी को हल्के से लेना उन्हें पछाड़ गया। इसके पीछे कारण एनसीईआरटी का नया सिलेबस भी रहा है। 

वे नए पैटर्न को समझने में थोड़ा चूक गए वहीं उन्होंने सीए सीपीटी को ध्यान में रखते हुए ऑप्शनल सब्जेक्ट पर ज्यादा मेहनत की। जिले में ही जिन विद्यार्थियों ने मैथ्स, कंप्यूटर साइंस, इंफॉर्मेशन प्रेक्टिसेज, एकाउंटेंसी, बिजनेस स्टडी में 90 से ज्यादा अंक हासिल किए, उनके अंग्रेजी में 70 से ज्यादा नंबर नहीं आए। 

कई विद्यार्थी ऐसे हैं जिनके हिंदी व अंग्रेजी में कम अंक आने से वे जिला मैरिट से भी चूक गए जबकि उनके अन्य विषयों में अंक राज्य स्तरीय मेरिट के हैं। एक्सपर्ट बताते हैं कि मेरिट इन विषयों पर ही निर्भर करती है। हिंदी व अंग्रेजी में व्याकरण के भी नंबर कट जाते हैं।


किस सब्जेक्ट में अधिकतम कितने अंक किए हासिल

विषय अंक
हिंदी 98

अंग्रेजी 99

कंप्यूटर साइंस 100

इंफॉर्मेशन प्रेक्टिसेज 99

इकॉनॉमिक्स 100

मैथमेटिक्स 100

एकाउंटेंसी 100

बिजनेस स्टडी 100

1 comment:

  1. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित है जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है, स्वरों
    में कोमल निशाद और बाकी स्वर
    शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में
    पंचम का प्रयोग भी किया है,
    जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता है.
    ..

    हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया
    है... वेद जी को अपने
    संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है.

    ..
    My webpage ... खरगोश

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...